Khamoshi Shayari in Hindi | खामोशी शायरी 2 लाइन.

This post we are going to share the best : Khamoshi Shayari in Hindi | Khamoshi love Shayari in Hindi, खामोशी शायरी 2 लाइन.

खामोशीयाँ यूं ही बेवजह नहीं होतीं
कुछ दर्द भी आवाज़ छीन लिया करतें हैं

तेरी खामोशी, अगर तेरी मज़बूरी है,
तो रहने दे इश्क़ कौन सा जरुरी है।

समझने वाले तो खामोशी भी समझ लेते है
न समझने वाले जज्बात का भी मजाक बना देते है

खामोशियाँ बोल देतीं हैं जिनकी बातें नहीं होती,
इश्क़ उन का भी कायम रहता है जिनकी मुलाकातें नहीं होती….

अपने खिलाफ बाते में अक्सर ख़ामोशी से सुनता हूं
जवाब देने का काम मैंने वक़्त को दे रखा है

Leave a Reply